बिहार बोर्ड 10वीं के टॉपर हिमांशु की कहानी

राज्य में टॉप –

हिमांशु राज ने बिहार बोर्ड दसवीं में 96.20% अंक प्राप्त किए हैं। हिमांशु के माता-पिता का कहना था कि बेटे की लगन मेहनत देखकर लगता था कि वह टॉप-10 में अपनी जगह बना सकता है, परंतु हिमांशु की मेहनत व परिश्रम रंग लाई हिमांशु ने अपनी पूर्णता मेहनत से टॉप-10 में पहला स्थान प्राप्त कर अपने राज्य का नाम रोशन कर दिया। पूरे रोहतास जिले में रौनक छाई हुई है।

नाम हिमांशु राज 
पितासुभाष सिंह
माता मंजू देवी
विधार्थी10 वीं 
स्कूल जनता हाई स्कूल 
सफलता राज्य में प्रथम स्थान प्राप्त 
पिता का व्यवसाय सब्जी बेचने का काम
पताबिहार राज्य, रोहतास जिला, दिनारा प्रखंड, तेनुअज पंचायत, नटवार कला गांव, वार्ड नं. 10 

हिमांशु की मेहनत

हिमांशु एक लगनशील व परिश्रमी विद्यार्थी है। हिमांशु राज 13 से 14 घंटे हर रोज अपनी पढ़ाई किया करते थे। हिमांशु की मां का कहना था कि बेटे की पढ़ाई की और लगन देखकर हम उसे कभी किसी काम के लिए नहीं कहा करते थे। जिससे उसकी पढ़ाई अधूरी रह जाए। हिमांशु रात भर अपनी पढ़ाई को जारी रखते थे। कई बार तो बिजली ना होने पर हिमांशु टॉर्च जलाकर अपनी पढ़ाई पूरी करते थे। हर दिन कम से कम 14 घंटे पढ़ाई कर अपने लक्ष्य को पूरा कर पाए है हिमांशु राज।

एक छोटे से गांव की कहानी-

एक छोटे से गांव में सब्जी बेचने वाले ने कभी ऐसा सोचा न होगा की चारो तरफ उनकी बाहवाही होगी। इन्होंने अपने परिवार को कड़ी मेहनत व परिश्रम से पालन पोषण किया है। जिनके बेटे हिमांशु राज ने बिहार राज्य में प्रथम स्थान प्राप्त कर अपने माता-पिता का नाम रोशन कर दिया है। उन्होंने सोचा भी नहीं होगा कि उन्हें कभी ऐसी पहचान मिल पाएगी, परंतु उनके बेटे हिमांशु राज ने अपनी कड़ी मेहनत से अपने पिता का गौरव बढ़ा दिया। अब उन्हें अपने नाम से नहीं अपितु उन्हें हिमांशु के पिता के नाम से जाना जाता है। यह अपने आप में ही कितने गौरव की बात होती है। आज हिमांशु के टॉपर बनने से उनके माता-पिता की खुशी का कोई अनुमान ही नहीं लगाया जा सकता है। हिमांशु को उनके माता-पिता का पूरा सपोर्ट प्राप्त है। वह आगे जो भी करना चाहते हैं उनके माता-पिता उनका साथ देंगे।

सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने की चाह

हिमांशु राज ने जिन्होंने बिहार बोर्ड 10वीं में पहला स्थान प्राप्त किया है। उनका सपना है कि वह सॉफ्टवेयर इंजीनियर बने अभी उन्होंने अपने सपनों की उड़ान भरी है। जिसमें वह प्रथम स्थान पर है। आगे 12वी में साइंस स्ट्रीम में भी इसी तरह का प्रदर्शन देना चाहते है। उसके बाद एक अच्छे कॉलेज से पढ़ाई पूरी कर सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने की चाह रखते है।

हिमांशु के शौक-

हिमांशु राज को भी सभी लड़कों की तरह ही क्रिकेट खेलना बेहद पसंद हैं। वह अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद अपने दोस्तों के साथ क्रिकेट खेला करते है। इन्हें गाने सुनना भी अच्छा लगता है। हिमांशु ओर बच्चों की तरह मोबाइल गेम नहीं खेल पाते है। उनकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। उन्होंने हमेशा अपनी पढ़ाई पर ध्यान दिया है। कभी किसी बात की जिद् भी नहीं की। हिमांशु की मां ने बताया कि हिमांशु अपने देश के लिए कुछ बड़ा करना चाहते हैं अपने सपनों को पूरा कर देश भर में घूमने की चाह रखते हैं।

Leave a Response